Posts Tagged ‘dreams’

On Her Beauty..

April 14, 2009

This poem was occasioned by the seeing of a beautiful face..

Someone said that it seems faintly inspired from Byron’s ‘She Walks In Beauty’. (clearly then, it needs more talent than inspiration to do a Byron : )

(picture courtesy: a distant friend) seaRead on… (more…)

Advertisements

What does it mean to dream in a dream?

April 8, 2009

 

Another poem of mine : ) part of which I had scribbled somewhere sometime…finished it and posting here..

Here – (more…)

The dreams I dreamt..

April 6, 2009

Oh! find my Magnum Opus below 😀 I wrote this poem long, long back. A friend asked me to put it here, and here it is..

(The pic above is from the internet for which credits are due to an unknown)

Read on… (more…)

Sax on the beach

March 26, 2009

I fell in love with the melody of the saxophone when I heard George Michael’s song ‘Careless Whispers’. That was long back during my engineering days; I had listened to the song all night that night. And I have loved the saxophone ever since.

I think the strain of the saxophone is matchless; something that other wind or stringed instruments cannot create. Unlike the delicate, contemplative violin, or the sophisticated piano, or the platonic-sounding flute, or the youthful ‘ting ting’ (ok, ‘strum’ ‘strum’) energy of the guitar, the mature, seductive, and heavy strain of a Saxophone starts whipping the romantic crap inside my head. It has a more (more…)

of dreams and dares..

March 9, 2009

These are probably the most inspiring lines I’ve ever read..

रात यों कहने लगा मुझसे गगन का चाँद,                                        night
आदमी भी क्या अनोखा जीव होता है!
उलझनें अपनी बनाकर आप ही फँसता,
और फिर बेचैन हो जगता, न सोता है।

जानता है तू कि मैं कितना पुराना हूँ?
मैं चुका हूँ देख मनु को जनमते-मरते
और लाखों बार तुझ-से पागलों को भी
चाँदनी में बैठ स्वप्नों पर सही करते।

आदमी का स्वप्न? है वह बुलबुला जल का
आज बनता और कल फिर फूट जाता है
किन्तु, फिर भी धन्य ठहरा आदमी ही तो?
बुलबुलों से खेलता, कविता बनाता है।

मैं न बोला किन्तु मेरी रागिनी बोली,
देख फिर से चाँद! मुझको जानता है तू?
स्वप्न मेरे बुलबुले हैं? है यही पानी?
आग को भी क्या नहीं पहचानता है तू?

मैं न वह जो स्वप्न पर केवल सही करते,
आग में उसको गला लोहा बनाता हूँ,
और उस पर नींव रखता हूँ नये घर की,
इस तरह दीवार फौलादी उठाता हूँ।

मनु नहीं, मनु-पुत्र है यह सामने, जिसकी
कल्पना की जीभ में भी धार होती है,
बाण ही होते विचारों के नहीं केवल,
स्वप्न के भी हाथ में तलवार होती है।

स्वर्ग के सम्राट को जाकर खबर कर दे-
रोज ही आकाश चढ़ते जा रहे हैं वे,
रोकिये, जैसे बने इन स्वप्नवालों को,
स्वर्ग की ही ओर बढ़ते आ रहे हैं वे।

~ रामधारी सिंह दिनकर